लापता विमान AN-32 का कोई सुराग नहीं, लेकिन कुछ चीजें मिली हैं

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः बीते दिनों लापता हुए भारतीय वायु सेना के परिवहन विमान एएन-32 की तलाश बुधवार को बिना किसी पुष्ट संकेत के साथ छठे दिन भी जारी रही. यह जानकारी रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने दी. विमान में 29 लोग सवार थे और 22 जुलाई को विमान बंगाल की खाड़ी के ऊपर से उड़ान भरने के दौरान अचानक रडार से गायब हो गया. रामेश्वरम में रक्षा मंत्री पर्रिकर ने कहा, “कुछ चीजें समुद्र में मिली हैं और जांच की जा रही है कि ये लापता विमान के अवशेष हैं या नहीं.” उन्होंने कहा, ”कोई अपुष्ट खबरें या दूसरी चीजें नहीं हैं. लेकिन कुछ चीजें मिली हैं. जहाजों से उनका सत्यापन करने को कहा गया है.” रक्षा मंत्री ने एक सवाल के जवाब में कहा, ”हम इस बात की पुष्टि नहीं कर सकते कि वे चीजें विमान की ही हैं. वे (वायुसेना, नौसेना और तटरक्षक) कोई भी कसर नहीं छोड़ रहे हैं.” इस बीच तटरक्षक बल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि लापता विमान की तलाश जारी है और राष्ट्रीय समुद्री प्रौद्योगिकी संस्थान का खोजी जहाज ‘सागर निधि’ जल्द ही तलाशी अभियान में शामिल होगा. उन्होंने कहा कि विमान से निकले तेल के कोई निशान नहीं मिले हैं. तलाशी वाले इलाके में समुद्र की गहराई करीब 3500 मीटर है और अगर विमान मिलता है तो उसे निकालने में कोई समस्या नहीं होगी. गौरतलब है कि 29 लोगों के साथ चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर के लिए उड़ान भरने के तुरंत बाद विमान लापता हो गया था. हवाई यातायात रडार द्वारा दर्ज किए गए. प्रतिलेख के अनुसार विमान अंतिम बार चेन्नई के पूरब में 151 समुद्री मील की दूरी पर तब देखा गया था जब वह 23,000 फीट की उंचाई से बाएं मुड़ा था. तटरक्षक और नौसेना के करीब 17 जहाज और साथ ही 23 वायुसेना विमान बंगाल की खाड़ी में विमान की तलाश कर रहे हैं.

Share This Post

Post Comment