पीएम मोदी करेंगे राष्ट्रपति भवन के संग्रहालय का उद्घाटन

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः राष्ट्रपति भवन संग्रहालय का द्वितीय चरण दो अक्टूबर से आम जनता के लिए खुलेगा. इसमें लोगों को वास्तविकता और मल्टी-स्क्रीन प्रोजेक्शन के जरिए हाईटेक किस्सागोई का अनुभव मिलेगा. प्रणव मुखर्जी का बतौर राष्ट्रपति चार साल का कार्यकाल पूरा होने के मौके पर सोमवार को इस संग्रहालय का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे.  राष्ट्रपति की सचिव ओमिता पॉल ने कहा, ”सोमवार तो इसका शुभारंभ हो जाएगा. हम टूर ऑपरेटरों को इसके लिए बुकिंग शुरू करने का एक संकेत देंगे. लेकिन आम जनता के लिए यह संग्रहालय दो अक्टूबर से खुलेगा. यह सप्ताह में छह दिन खुला रहेगा. हमने टिकट की शुरुआती कीमत 50 रुपए रखी है और संग्रहालय में प्रवेश गेट संख्या 30 से किया जाएगा.” इस संग्रहालय को पूरा करने में करीब दो साल लगे और इस पर अनुमानित 80 करोड़ रुपए की लागत आई है. इस संग्रहालय का उद्देश्य आम लोगों को राष्ट्रपति की संपदा के इतिहास से वाकिफ कराना है. उन्होंने कहा, ”हमारा उद्देश्य किसी चीज पर ध्यान केंद्रित करना नहीं है. यहां हमने उन पुरावशेषों को रखा है जो राष्ट्रपति भवन और पूर्व के राष्ट्रपतियों के अपने पीछे छोड़ी गई विरासतों से जुड़े हैं. यहां हमारा उद्देश्य इतिहास को पेश करना है.” राष्ट्रपति इस मौके पर एक हो-हो पर्यटक बस भी रवाना की करेंगे. संग्रहालय के निर्माता सरोज घोष ने कहा कि 1,30,000 वर्ग फुट क्षेत्र में स्थापित यह संग्रहालय करीब 2000 कलाकृतियों का एक नया ठिकाना होगा और इनके जरिए राष्ट्रपति भवन और भारत के राष्ट्रपतियों की दास्तां बताई जाएगी. उन्होंने कहा, ”यह देश में अकेला ऐसा संग्रहालय है, जो भूमिगत है. यह एक वस्तु आधारित संग्रहालय नहीं है, बल्कि किस्सागोई आधारित संग्रहालय है. विभिन्न हाईटेक माध्यमों के जरिए इतिहास प्रस्तुत करना इस संग्रहालय की मुख्य विशेषता है जिसमें से एक में आगंतुकों को सन 1931 में ले जाया जाएगा जहां महात्मा गांधी, इरविन के साथ संधि पर हस्ताक्षर करने के बाद वायसराय हाउस से बाहर निकलते हैं. पुरावशेषों के अलावा, इस संग्रहालय में विभिन्न सेंसर भी लगाए गए हैं.

Share This Post

Post Comment