घरेलू उपकरणों को बनाने वाली एलजी इलेक्ट्राॅनिक प्रोडक्शन पूरी तरह से बंद

गौतमबुद्धनगर, उत्तर प्रदेश/मयंक शर्माः एलजी इलेक्ट्रोनिक ये वो कंपनी है जिसका कोई न कोई प्रोडक्ट जैसे टीवी, एलसीडी, एलईडी, एसी, फ्रिज या मोबाइल हमारे हर घर में जरूर मिल जाएगा, लेकिन आज इन घरेलू उपकरणों को बनाने वाली एलजी इलेक्ट्राॅनिक में प्रोडक्शन पूरी तरह से बंद है। एल जी के सारे पिछले 9 दिनों से हडताल पर है। इस कंपनी के एक कर्मचारी से जब मैने बात करी तो इस हड़ताल के पीछे के कुछ महत्वपूर्ण कारण मेरे सामने आए। एलजी कंपनी में कुल 850 कर्मचारी कार्यरत है। कंपनी में पिछले 6 महिनों से युनियन बनाने को लेकर वार्ताएं चल रहीं थी। इनमें से 11 कर्मचारीयों ने यूनियन बनाने का जिम्मा लेते हुए इसकी सभी प्रक्रियाओं को पूर्ण करने की योजना बनाई। जिसमें सभी प्रक्रियाओं को पूर्ण करने की योजना बनाई, जिसमें सभी 850 कर्मचारीयों की सहमति हुई। क्योंकि एलजी इलेक्ट्रोनिक एक विदेशी कंपनी है। और इसके उच्चस्थ पद भी सभी विदेशी कर्मचारी कार्यरत है, अतः उनको कर्मचारियों द्वारा यूनियन बनाने का प्रस्ताव नागवार गुजरा और कंपनी ने बिना किसी नोटिस के उन 11 कर्मचारियों का स्थानान्तरण अपनी दूसरी शाखाओं में कर दिया एंव इन 11 कर्मचारियों से जबरन इनके इम्पलाॅय कार्ड भी छीन गए। कंपनी के अंदर हड़ताल पर बैठे कर्मचारीयों को पिछले 9 दिनों से ना तो उनके परिवार वालों से मिलने दिया गया और ना ही उनके जरूरत का कोई समान वहां तक पहुंचाने दिया जा रहा है। सारे कर्मचारी उन्ही कपड़ो में है जो उन्होने आज से 9 दिन पहले पहले थे। आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि इनमें 30 से 40 संख्या में महिलाँए भी है। कर्मचारियों का कहना है कि अगर वो कंपनी के गेट से बाहर गए तो उन्हें वापस अन्दर नहीं आने दिया जाएगा इसीलिए वो कंपनी के अन्दर ही धरना दिए बैठे है। जिन कर्मचारियों ने एलजी इलेक्ट्रोनिक को आज इस मुकाम तक पहुचांया है, वहीं कंपनी आज उन्हें सड़कों पे बैठने पर मजबूर कर रही है। आशा करते है कि इस खबर से नेताओं और प्रशासनिक अफसरों की नींद खुले और वो कंपनी मेनेजर एंव कर्मचारियों के बीच बातचीत करवाकर कोई हल निकाल सकें।

Share This Post

Post Comment