संतोषा अपार्टमेंट पर नहीं चल सका प्रशासन का बुलडोजर, लोगों ने खदेड़ा

पटना, बिहार/नगर संवाददाताः राजधानी पटना के बंदर बगीचा इलाके में स्थित संतोषा अपार्टमेंट के अवैध तल्लों को पटना प्रशासन शुक्रवार को तोड़ने में नाकाम रहा. प्रशासन को सुबह से लेकर शाम तक बिल्डिंग में प्रवेश को खासी मशक्कत का सामना करना पड़ा लेकिन लोगों के आगे प्रशासन की एक न चली. भारी संख्या में पुलिस और सुरक्षा बलों की मौजूदगी के बावजूद भी निगम के अधिकारियों को अपार्टमेंट में प्रवेश नहीं मिल सका है. नगर निगम, जिला प्रशासन और पटना पुलिस की मदद से इस अपार्टमेंट के तीन तल्लों के कुल 21 फ्लैटों को तोड़ा जाना है. सुप्रीम कोर्ट ने 10 जुलाई तक अपार्टमेंट के अवैध तल्लों को तोड़ने का निर्देश दिया है जिसके बाद से अपार्टमेंट के लोगों का विरोध लगातार जारी है. लोगों ने विरोध जताते हुए मेन गेट को बंद कर दिया. नगर निगम अवैध निर्माण को तोड़ने की तैयारी कर रहा है. मौके पर नगर निगम के अधिकारी, पुलिस ऑफिसर और मजदूर पहुंच गए थे लेकिन लोगों ने मेन गेट में ताला मार दिया. अपार्टमेंट के लोग अपने फ्लैटों को बचाने की अंतिम कोशिश में लगे हैं. अपार्टमेंट के कम्पाउंड में बड़ी संख्या में महिलाएं, बच्चे और बड़े पूरे दिन जुटे रहे. जानकारी के मुताबिक शनिवार को फिर से प्रशासन बिल्डिंग को तोड़ने की कोशिश करेगा. हाथों में तख्तियां लिए महिलाएं फ्लैट नहीं तोड़ने की अपील कर रही थी. उनका कहना है कि अगर निर्माण अवैध था तो नगर निगम उसने इतने सालों तक टैक्स क्यों लेती रही. संतोषा अपार्टमेंट में अब तक 150 से अधिक सशस्त्र पुलिस बल की तैनाती की गई है इनमें 100 सशस्त्र पुलिस बल, 50 महिला बल, वज्रवाहन, फायर टेंडर एवं एंबुलेंस हैं. पीड़ित लोग फ्लैट तोड़े जाने से पहले उचित मुआवजा देने की मांग लगातार कर रहे हैं.

Share This Post

Post Comment