केजरीवाल श्री दरबार साहिब में साफ करेंगे जूते और जूठे बर्तन

अमृतसर, पंजाब/नगर संवाददाताः आम आदमी पार्टी के यूथ चुनाव घोषणा पत्र में श्री दरबार साहिब की तस्वीर के साथ अपनी और चुनाव निशान झाडू की फोटो लगाने के मामले में घिरे पार्टी संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल श्रीहरिमंदिर साहिब में सेवा करेंगे। वह इस मामले पर मचे बवाल को शांत करने और सिखों की आहत भावना पर मरहम लगाने के लिए 18 जुलाई को अमृतसर आएंगे। इस दिन वह श्री हरिमंदिर साहिब में लंगर के जूठे बर्तन व जूते साफ कर सेवा करेंगे। वह श्री अकाल तख्त साहिब में उपस्थित होकर माफी भी मांगेंगे। पार्टी नेता व 1984 सिख दंगों में मारे गए सिखों का केस लडऩे वाले वरिष्ठ वकील एचएस फुलका ने कहा कि केजरीवाल बाद दोपहर श्री हरिमंदिर साहिब में पहुंचेंगे। वह सबसे पहले लंगर में बर्तन धोने के साथ-साथ श्री हरिमंदिर साहिब के जोड़ा घर में कुछ पल बैठकर सेवा करेंगे। बाद में, वह अकाल तख्त साहिब में जाकर माफी मांगेंगे। इसके लिए एडवोकेट फुलका व आम आदमी पार्टी दिल्ली के सिख विधायक जिसमें जरनैल सिंह भी शामिल है वो भी उनके साथ आएंगे। बता दें, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान जत्थेदार अवतार सिंह मक्कड़ ने भी मामले में आक्रामक रूख अपना दिया था। उन्होंने मामले में केजरीवाल व उनकी टीम के खिलाफ कानूनी लडऩे की बात कही थी। मक्कड़ ने कहा था कि केजरीवाल और उनकी टीम राजनीतिक लाभ के लिए सभी मर्यादा को भूल गए। आप के युवा घोषणा पत्र पर दरबार साहिब के तस्वीर के साथ केजरीवाल ने अपनी और झाडू की फोटो लगाकर सिखों की भावनाओं को आहत किया है। इसे किसी सूरत में सहन नहीं किया जा सकता। इसे माफ नहीं किया जाएगा और इन नेताओं को अदालत से सजा दिलाई जाएगी। उन्होंने कहा कि घोषणा पत्र जारी करने के मौके पर आप नेता आशीष खेतान ने जिस तरह पार्टी के घोषणा पत्र की श्री गुरूग्रंथ साहिब से तुलना की उसे भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। इससे सिखों की भावनाएं आहत हुई हैं। उधर, चंडीगढ़ अदालत में अरविंद केजरीवाल व आशीष खेतान के खिलाफ सिखों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने की आपराधिक शिकायत दायर कर दी गई है। आरोप के मुताबिक 4 जुलाई को केजरीवाल और खेतान ने जारी मेनिफेस्टो के पहले पन्ने पर हरमिंदर साहिब का फोटो लगाया था। इसके अलावा आशीष खेतान ने रैली को अपने संबोधन में कहा था कि हमारा यूथ मेनिफेस्टो गुरु ग्रंथ और गीता के बराबर है। एडवोकेट रविंदर सिंह बस्सी ने दायर आपराधिक शिकायत में अदालत से मांग की है कि केजरीवाल और खेतान ने जानबूझकर सिखों की धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाई है। ऐसे में बस्सी ने मांग की है कि ऐसे में संबंधित एसएसपी और थाना प्रभारी को जांच करने के निर्देश दिए जाएं।

Share This Post

Post Comment