जामा मस्जिद के शाही इमाम का ऐलान, 7 जुलाई को मनेगा ईद

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः चांद नहीं दिखने के चलते ईद गुरुवार (7 जुलाई) को मनाया जाएगा. दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने मंगलवार शाम एक बयान जारी कर गुरुवार को ईद मनाए जाने की घोषणा की. माहे रमजान के बाद मनाए जाने वाले इस त्‍योहार के लिए दिल्‍ली सहित देशभर के सरकारी दफ्तरों में गुरुवार को ही छुट्टी रहेगी. उधर, लखनऊ चांद कमेटी के मौलाना कल्बे सादिक ने कहा ने भी गुरुवार को ईद मनाए जाने का ऐलान किया. मालूम हो कि चांद के मंगलवार को दिखने की संभावना थी, इसलिए माना जा रहा था कि ईद बुधवार को हो सकती है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब गुरुवार को ईद मनाई जाएगी. मुस्लिम कलैंडर में ईद-उल-फितर का अपना महत्व है. इसका कनेक्शन किसी ऐतिहासिक घटना से नहीं है. यह वह दिन होता है, जिस दिन मुस्लिम अल्लाह का शुक्रिया अदा करते हैं. अल्लाह का शुक्रिया विशेषकर रमजान के दिनों में उन्हें मजबूती देने के लिए अदा किया जाता है. रमजान का इस्लाम में बहुत बड़ा महत्व है. रमजान के एक महीने के दौरान सूरज उगने से लेकर डूबने तक उपवास रखा जाता है. ग्रेगोरियन कैलेंडर के मुताबिक एक वर्ष से दूसरे वर्ष में प्रवेश करने पर यह त्योहार मनाया जाता है. ईद नए चांद के दिखने पर मनाई जाती है. ईद के दिन लोग मस्जिदों में इकट्ठे होकर नमाज अदा करते हैं. इस दिन नए कपड़े पहने जाते हैं. नए-नए पकवान बनाए जाते है. ईद के दिन गिफ्ट और कार्ड्स भी एक दूसरे को दिए जाते हैं. ईद खुशी के तौर पर मनाई जाती है. यह वह खुशी होती है जो एक अहम काम पूरा करने पर मिलती है.

Share This Post

Post Comment