25 लाख की चोरी का होना पड़ा शिकार

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः बेहद दुर्दांत और दुस्साहसिक अंदाज में हत्याएं करने में माहिर हो चले मुनीर को भी जरायम पेशे में आगे बढ़ते हुए कई मर्तबा धोखे तो मिले। वहीं खुद को एक बार 25 लाख की चोरी का भी शिकार होना पड़ा।दिल्ली से डेढ़ करोड़ की लूट के बाद वह पचास लाख रुपयों का बैग लेकर फरारी काटने अलीगढ़ आया और शरणस्थल पर पहली ही रात में उसके सिर सहारे रखे बैग से 25 लाख चोरी हो गए। सुबह चोरी की भनक पर सबसे पहले उसने वहां से निकलने में भलाई समझी और फिर जब चोरी करने वाले का नाम उजागर हो गया तो उसे गद्दार की संज्ञा देकर मारने भी घूमा। मगर वह आज तक उसके पल्ले नहीं पड़ा। मुनीर स्वीकाराता है कि अगर चोरी करने वाला दीपू ठाकुर उसे मिल जाता तो गद्दारी करने की सजा उसने जिस तरह अपने दोस्त सद्दाम व गांव के ही तंजील अहमद को दी, उसी तरह दीपू को भी मौत के घाट उतार देता। कई लूट और हत्या में वांटेड रहा मुनीर ने अलीगढ़ पुलिस से पूछताछ में कई खुलासे किए हैं।

Share This Post

Post Comment