बाड़मेर में नाले नालियों की सफाई ढ़ग से न होने से बीमारी फैलने का मंडराया खतरा

बाड़मेर, राजस्थान/नगर संवाददताः इस बार मानसून भले ही देर से बाड़मेर पहुंचा हो लेकिन बाड़मेर नगर परिषद की कार्यशैली के कारण आम जनता की मुसीबतें कम नहीं होने वाली हैं. मानसून सर पर है, लेकिन बाड़मेर शहर के नाले और नालियों की सफाई सही ढंग से नहीं हो रही है. आने वाले दिनों में बाड़मेर में बीमारियों के बढ़ने का खतरा सर पर मंडरा रहा है. जुलाई महीने की शुरुआत के साथ मानसून की आहट भी साफ सुनाई दे रही है. आमजन मानसून आने की पूर्व तैयारियों के साथ संभावित बीमारियों की चिंता कर रहा है. वहीं नगर परिषद अभी तक गहरी नींद में सो रहा है. मानसून सर पर होने के बावजूद भी न तो नालों की सफाई हो रही है और न ही शहर के भीतरी इलाकों में नालियों की, जिसकी वजह से बारिश के बाद इन नाले और नालियों में मच्छरों के बढ़ने की प्रबल संभावना नजर आ रही है. नालों और नालियों की पुख्ता सफाई नहीं होने से जगह जगह कीचड़ पसरा हुआ नजर आ रहा है. आमजन को जहां इनसे बीमारियों के फैलने का डर सता रहा है वहीं नगर परिषद घोड़े बेचकर सो रहा है. मानसून के आने के बाद भी नगर परिषद को आमजन के स्वास्थ्य की कोई परवाह नहीं है. हालांकि बाड़मेर नगर परिषद आयुक्त का कहना है कि वो इतने दिन छुट्टी पर थे, लेकिन आते ही उन्होंने सफाईकार्मिकों को नाले और नालियों के सफाई के निर्देश दे दिए हैं. कुछ ही दिनों में नालों और नालियों की पुख्ता सफाई हो जाएगी.

Share This Post

Post Comment