सरकारी कर्ज के लिए किसानों से बैंक अधिकारी मांग रहे हैं कमीशन

रायपुर, छत्तीसगढ़/नगर संवाददाताः छत्तीसगढ़ में किसानों को कर्ज देने की शासन की योजनाएं गरियाबंद जिले में दम तोड़ती नजर आ रही है. दरअसल योजना भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गयी है. सरकार किसानों को साहूकारों के चंगुल से मुक्त कराने के लिए एक प्रतिशत ब्याज पर लोन दे रही है और गरियाबंद में लोन के नाम पर किसानों से कमीशन मांगा जा रहा है. जिला सहकारी बैंक के अधिकारी बिना कमीशन लिये किसानों को लोन नहीं देते हैं. कमीशन न देने पर लोन के लिए किसानों से बैंक के चक्कर लगाते रहते हैं. यहां तक कि विड्रॉल फार्म के भी पैसे किसानों से वसूले जा रहे हैं. ऐसा मामला देवभोग जिला सहकारी बैंक का है. क्षेत्र के किसानों ने बैंक अधिकारियों पर कमीशन लेने का आरोप लगाया है साथ ही मामले की शिकायत स्थानीय विधायक और संसदीय सचिव गोवर्धन मांझी से भी की है. गोवर्धन मांझी ने मामले को गंभीरता से लिया और खबर मिलते ही जिला सहकारी बैंक पहुंचकर अधिकारियों को फटकार लगाई साथ ही नियमों के तहत कार्य करने के निर्देश दिए हैं. अब देखने वाली बात यह होगी कि विधायक जी फटकार का बैंक अधिकारियों पर क्या असर पड़ता है.

Share This Post

Post Comment