रातड़िया गांव में पटवारी द्वारा मनमानी

जैसलमेर, राजस्थान/खीयारामः रातड़िया गांव में पटवारी द्वारा मनमानी करना व जनता से रुपए लेने के संबंध में एसडीएम को सौंपा ज्ञापन रातड़िया में नियुक्त पटवारी जगदीश मीणा गांव की जनता के साथ मनमानी रवैया से रूपये लेता है। अगर कोई गांव का आदमी जमाबंदी लेने के लिए आता है तो उनको दो-चार दिन चक्कर कटवा लेता है जब 200 ढाई सौ रुपए देने पर खेत की जमाबंदी निकाल कर देता है मेटिसीन भरवाने में मुंह मांगी रकम मांगता है नहीं तो मैं मेटिसीन नहीं भरा जाएगा मूल निवास प्रमाण पत्र जाति प्रमाण पत्र बनवाने के लिए लोगों से रुपए मांगता है। लोगों से कहता है कि जिस आदमी के फसल खराब का मुआवजा लेना है तो रुपए दो नही तो नाम लिस्ट से काट दिया जाएगा। हाल ही में प्रधानमंत्री आवास योजना के फाॅर्म भरे थे। उनके 500-500 रुपए लिए कि जो आदमी रुपए देगा उसक यह आवास आएगा नहीं तो इस योजना से वंचित रह जाओगे। साथ-साथ यह भी कहता कि पटवारी गांव का जिलाधीश होता है इसको रुपए देना ही होगा इस तरह की मनमानी से जनता पटवारी से तंग आ चुकी है। कई बार समझाने पर भी पटवारी के समझ में नहीं आया है इसके साथ-साथ गत वर्ष नायब तहसीलदारों आरआई के समझाने के बावजूद भी नहीं मानता इसकी जगह पटवारी का भाई काम करता है फोन करने पर किसी को संतोषजनक जवाब नहीं देता है। अगर फोन उठा भी लिया तो कहता है मैं यहां नहीं हूं पटवार घर चले जाओ वहां आप का काम हो जाएगा। पटवार घर में उसका भाई बैठा काम करता है जो अनपढ़ गरीब आदमियों से मुंह मांगा रुपए लेता है। इस तरह की कई गलतियां से इस पटवारी से गांव की जनता तंग आ गई है। अतः आपसे प्रार्थना है कि या तो इस पटवारी को चेतावनी देकर ठीक से कार्य करने का आदेश दें, नहीं तो अगली बार ऐसा करने पर जनता आंदोलन पर उतर जाएगी इसलिए आप पर पूर्ण से विश्वास हैं कि आप गांव की जनता को न्याय दिलवाने का कष्ट करें।

Share This Post

Post Comment