मानसून के लिए दिल्ली को करना होगा थोड़ा इंतजार

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः  दक्षिण-पश्चिमी मॉनसून सूखा ग्रस्त मराठवाड़ा क्षेत्र सहित देश के ज्यादातर हिस्सों में पहुंच गया है। मौसम विभाग ने बताया कि बारिश में कुल कमी अब घटकर महज 22 प्रतिशत रह गई है। भू विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम. राजीवन ने कहा, मॉनसून ने आधे देश को कवर कर लिया है। पिछले दो-तीन दिन से सूखा प्रभावित मराठवाड़ा और विदर्भ के कुछ हिस्सों में भी बारिश हो रही है। राजीवन ने कहा कि मॉनसून जून के अंतिम सप्ताह या जुलाई के शुरुआत में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पहुंचेगा। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, दक्षिण-पश्चिमी मॉनसून मध्य अरब सागर, कोंकण, मराठवाड़ा और विदर्भ, मध्य महाराष्ट्र के ज्यादातर हिस्सों और मध्यप्रदेश के दक्षिण-पश्चिमी तथा पूर्व के कुछ हिस्सों तक पहुंच गया है। मॉनसून की उत्तरी सीमा दहानू, मालेगांव, पंचमढ़ी, जबलपुर, सिद्धी, पटना और रक्सौल से होकर गुजर रही है। मौसम विभाग का कहना है, दक्षिण-पश्चिमी मॉनसून के उत्तरी अरब सागर, दक्षिणी गुजरात, मध्य महाराष्ट्र के बचे हुए हिस्सों, मध्यप्रदेश के कुछ क्षेत्रों, पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के बाकी हिस्सों में अगले 48 घंटों में पहुंचने की पूर्ण संभावनाएं हैं। मौसम विभाग ने इस वर्ष ‘‘सामान्य से ज्यादा’’ मॉनसून का अनुमान लगाया है। हालांकि केरल में इसका आगमन सामान्य समय से सात दिन देर से 8 जून को हुआ। इसके अनुसार, अनुकूल परिस्थितियों के अभाव में मॉनसून की रफ्तार धीमी रही। कुल मिलाकर बारिश की कमी जो शनिवार तक 25 प्रतिशत थी, अब घटकर 22 प्रतिशत पर आ गई है और इसके आगे और कम होने के आसार हैं।

Share This Post

Post Comment