आरक्षण की मांग को लेकर जाट आंदोलन का सोमवार को दूसरा दिन

सोनीपत, हरियाणा/नगर संवाददाताः हरियाणा में आरक्षण की मांग को लेकर जाट आंदोलन का सोमवार को दूसरा दिन है। राज्य के 15 जिलों के 15 गांवों में जाट समुदाय के लोग धरने पर बैठे हैं। करीब तीन महीने पहले जाटों के हिंसक आंदोलन में 30 लोगों की मौत के बाद जाट नेताओं ने कड़ी सुरक्षा के बीच एक बार फिर रविवार से हरियाणा में अपना धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। पहले दिन धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहने के बाद सरकार और प्रशासन को राहत मिली है। फिलहाल यह प्रदर्शन छोटी-छोटी बैठकों तक सीमित है। पिछली बार जाटों के प्रदर्शन से निपटने में नाकाम रहने पर हरियाणा की भाजपा सरकार को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था। हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) रामनिवास ने बताया, राज्य में शांति रही और किसी हिस्से से किसी अनहोनी की खबर नहीं है। यातायात भी सामान्य रहा। प्रदर्शनकारियों ने न तो राजमार्ग और न ही रेल लाइन को जाम किया। राम निवास ने बताया कि कई जिलों में जाट समुदाय के लोगों ने कोई प्रदर्शन नहीं किया। कुछ जगहों पर प्रदर्शनकारी धरने पर बैठे, उपायुक्तों को ज्ञापन सौंपे और फिर कुछ समय बाद धरने से उठ गए। राष्ट्रीय राजमार्गों और रेल पटरियों सहित पूरे हरियाणा में चौकसी बरतने के लिए केंद्र और राज्य के करीब 20,000 सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए हैं। फरवरी में हुए हिंसक प्रदर्शन में प्रदर्शनकारियों ने राजमार्गों और रेल की पटरियों को कई दिनों तक जाम कर दिया था।

Share This Post

Post Comment