डीएम ने खुद एक ग्राम प्रधान के घर पर पहुंच कर किया लन्च

गोंडा, युपी/मयूर रैतानीः गांव में विकास को गति देने, आपसी समन्वय बनाने व ग्राम स्तरीय कर्मचारियों को एक मंच पर लाने हेतु डीएम आशुतोष निरंजन की अभिनव पहल का जनपद के ग्राम प्रधानों ने जोरदार स्वागत करते हुए डीएम के अनुरोध पर पूरे जिले में ग्राम स्तरीय कर्मचारियों को अपने-अपने घरों पर ‘‘लन्च विद प्रधान’’ प्रोग्राम के तहत लन्च कराया। बताते चलें कि ‘‘काफी विद कलेक्टर’’ प्रोग्राम की शानदार कामयाबी के बाद डीएम ने ग्राम स्तरीय कर्मचारियों को एक मंच पर लाने एवं विकास को गति देने के लिए ग्राम प्रधानों को पत्र लिखकर ग्राम स्तरीय कर्मचारियों को अपने-अपने घरों पर लन्च कराने का अनुरोध किया था। डीएम की इस पहल का जिले के ग्राम प्रधानों ने खुले मन से जोरदार स्वागत किया और जिले के अधिकांश ग्रा प्रधानों ने अपने-अपने घरों पर लेखपाल, पंचायत सचिव, रोजगार सेवक, बीट कान्सटेबल, सफाईकर्मियों, आशा बहू, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों व एएनएम को लन्च कराया और गांव के विकास, समस्याओं एवं उनके निराकरण पर मंथन किया। डीएम ने ग्राम स्तरीय कर्मचारियों व ग्राम प्रधानों का टीम भावना से कार्य करने का आहवान किया था । डीएम की अनोखी पहल से उत्साहित जिले के अधिकांश ग्राम प्रधानों व कर्मचारियों ने टीम भावना के साथ गांव के विकास को रफ्तार देने का वायदा किया है। अपने अनुरोध की हकीकत परखने के लिए डीएम स्वयं वीरपुर विसेन की ग्राम प्रधान कामिनी देवी के घर पर पर अचानक पहुंच गए। डीएम को देखकर कर्मचारियों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। डीएम ने ग्राम प्रधान के घर पर वीआईपी भोजन करने से मना कर दिया और गांव के चैकीदार, सफाईकर्मी व महिला कर्मचारियों के साथ पंंक्त में बैठकर लन्च किया। डीएम ने ग्राम प्रधानों के उत्साह और उनके अनुरोध पर लन्च विद प्रधान कार्यक्रम को सफल बनाने पर ग्राम प्रधानों को बधाई दी है और धन्यवाद ज्ञापित किया है। उन्होने विश्वास जताते हुए कहा है कि आगे भी इसी तरह ग्राम की सरकार आपसी तालमेल के साथ टीम के रूप में काम करेगें और अपने-अपने गांवों में विकास को रफ्तार देगें। उन्होने कहा कि ग्राम प्रधानों के सहयोग से यह पहल कारगर साबित होगी और निश्चित ही विकास को नया आयाम मिलेगा। उन्होने कहा कि इस पहल का उनका मुख्य उद्देश्य ग्राम स्तरीय कर्मचारियों व ग्राम प्रधानों के बीच की दूरी को समाप्त कर गांव में विकास कार्यक्रमों को बेहतर ढंग से क्रियान्वित करना है।

Share This Post

Post Comment