प्रथम स्थान पाने वालों की मेधा तथा उन्हें अंक देने वाले परीक्षक की उच्च स्तरीय जांच का निर्देश दिये

पटना, बिहार/नगर संवाददाताः बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक कुमार चौधरी ने इंटरमीडियट की कला, विज्ञान और वाणिज्य संकाय की परीक्षा में प्रथम स्थान पाने वालों की मेधा तथा उन्हें अंक देने वाले परीक्षक की उच्च स्तरीय जांच का निर्देश दिये हैं. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति घोषित इंटर के कला संकाय में राज्य में टॉपर रही रुबी कुमारी ने एक टीवी चैनल को दिए गए साक्षात्कार के दौरान पॉलिटिकल साइंस को ‘प्रोडिकल साईंस’ उच्चारित किया. साथ ही कहा था कि पॉलिटिकल साइंस में खाना बनाने की पढाई होती है और विज्ञान संकाय में टॉपर रहे सौरव श्रेष्ठ के प्रोटोन और इलेक्ट्रोन से अवगत नहीं होने की बात सामने आयी थी. रुबी कुमारी को कुल 500 अंकों की परीक्षा में 444 अंक प्राप्त किए हैं, पर उन्हें सभी विषयों के कुल अंक के बारे में जानकारी नहीं है और 500 के बजाए 600 अंक की परीक्षा देने की बात कही. उल्लेखनीय है कि ये दोनों टॉपर वैशाली जिला के भगवानपुर स्थित विशुन राय कॉलेज के हैं. पिछले साल परीक्षा में सामूहिक नकल करने से प्रदेश की हुई किरकिरी के दौरान भी यह कॉलेज विवाद में आया था. गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर तत्कालीन शिक्षा मंत्री पीके शाही ने इस कॉलेज का परिणाम रोक दिया था.

Share This Post

Post Comment