मां ने ही दे दी अपनी बेटी को फांसी

चंढीगढ़/नगर संवाददाताः पंजाब से रिश्तों में उलझी एक हत्या की गुत्थी को पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है. पुलिस ने जो दावे इस मामले में किए हैं वह बेहद चौंकाने वाले हैं. 23 मई को पंजाब के अबोहर शहर के एक घर में 17 साल की दीक्षा की लाश पंखे से लटकती हुई मिली थी. दरअसल यह हत्या थी और पुलिस ने इस मामले में उसकी मां को ही गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने जांच में पाया कि आरोपी महिला को फेसबुक पर अपनी आधी उम्र के लड़के से प्यार हो गया. महिला की जिद पर लड़का सउदी अरब से आकर उसके घर पर रहने लगा. इसी दौरान महिला की बेटी भी युवक को दिल दे बैठी. ये बात मां को सहन नहीं हुई और उसने बेटी को ही फांसी पर लटका कर मार डाला. इसके बाद कत्ल को खुदकुशी दिखाने की काफी कोशिश की लेकिन नाकाम रही. बुधवार को वारदात का खुलासा करते हुए एसएसपी नरेंद्र भार्गव ने बताया कि प्रेम प्रसंग में रोड़ा बन रही बेटी को उसकी मां ने प्रेमी के साथ मिलकर फांसी पर लटकाकर मारा था. उन्होंने बताया कि महिला के पति ने तीन साल पहले सुसाइड कर लिया था. आरोपी मंजू पति की मौत के बाद ससुराल से अलग होकर एक बेटा व बेटी के साथ पंजपीर नगर में रहने लगी. पिछले साल फेसबुक पर उसकी दोस्ती सऊदी अरब में रहने वाले 26 साल के विजय उर्फ सोनू से हो गई. विजय मूल रूप से हरियाणा के रेवाड़ी का रहने वाला है. महिला के कहने पर विजय 27 दिसंबर को सऊदी अरब से इंडिया आया. 1 जनवरी से विजय मंजू के घर रह रहा था. करीब दो महीने पहले विजय के मंजू की 17 साल की बेटी दीक्षा से भी प्रेम संबंध हो गए. इस पर मां-बेटी में झगड़ा रहने लगा. ऐसे में दीक्षा ने एक दिन खुदकुशी की धमकी दे डाली. उसने कुछ दिन पहले फिनैल आदि की गोलियां निगल लीं. तब तो वह बच गई लेकिन मंजू ने बहाने से बेटी से 20 मई को सुसाइड नोट लिखवा लिया. खुदकुशी का कारण संपत्ति विवाद लिखवाया. 23 मई को दीक्षा ने किसी नुकीली चीज से हाथ पर विजय लिखा. इसे देखकर मंजू आग बबूला हो उठी और चुन्नी से दीक्षा का गला घोंट दिया. इसी दौरान विजय वहां पहुंच गया तथा दोनों ने इसे खुदकुशी का रूप देने के लिए उसे गले से बांध कर पंखे से लटका दिया और बाहर घूमने चले गए. काफी देर बार मंजू का 12 साल का बेटा घर आया तो उसने यह सब देखकर शोर मचाया. मंजू की आंखों में बेटी की मौत का कोई गम नजर नहीं आया. इस घटना के खुलासे के बाद आस-पड़ोस के लोग भी आश्चर्य़ में हैं. उनका कहना है कि महिला ने आशिक को उनका रिश्तेदार बता कर घर में रखा था. लेकिन, किसी को इल्म नहीं था कि वे घर की चाहरदीवारी के पीछे क्या गुल खिला रहे हैं

Share This Post

Post Comment