चोरों ने सिर्फ हाथ साफ ही नहीं किया बल्कि स्टेशनों पर अपना कब्जा भी जमा लिया

धनबाद, झारखंड/नगर संवाददाताः रेल की संपत्ति आपकी अपनी संपत्ति है. शायद झारखंड के झरिया इलाके के लोहा चोरों ने इसका सही अर्थ कुछ अपने अंदाज में समझा. शायद यही वजह है झरिया स्टेशन और हाल्ट के सामानों पर सिर्फ हाथ साफ ही नहीं किया बल्कि सालों से खाली पड़े स्टेशनों पर अपना कब्जा भी जमा लिया. इन रेल स्टेशनों के कमरों में मुर्गी पालन और रेलवे ट्रैकों के आसपास खेती की जा रही है. धनबाद-झरिया-सिंदरी रेल मार्ग कभी देश का एक व्यस्त रेलमार्ग रहा है. इस रेलमार्ग में करीब दर्जनों छोटे-बड़े स्टेशन पड़ते है. आज इनमें से अधिकतर स्टेशन या तो गायब हो चुके है या लोहे के कबाड़ में तब्दील हो चुके है. दरअसल अग्नि प्रभावित क्षेत्र घोषित होने की वजह से रेलवे ने 2004 -05 से यहां रेलों का परिचालन बंद कर दिया था.

Share This Post

Post Comment