आतंकियों ने दिल्ली में रहकर धमाके की साजिश रचने का राज उगला

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः काबुल में गिरफ्तार दो आतंकियों ने दिल्ली में रहकर धमाके की साजिश रचने का राज उगला है. अब इन दोनों को वहां से लाने की राजनयिक कोशिश जरूर की जा रही है. ये वो आतंकी हैं जो दिल्ली और आसपास दहशत फैलाने के इरादे से छह महीने पहले आए थे. इनके निशाने पर दिल्ली का इस्कॉन मंदिर, कई भीड़ भरे इलाके, शॉपिंग मॉल तो थे ही, साथ गी आगरा का ताजमहल भी निशाने पर था. दरअसल, हाल ही में अफगानिस्तान में भारतीय वाणिज्यिक दूतावास में हुए आतंकी हमले के बाद काबुल पुलिस ने दोनों को पकड़ा गया था. हमले के दौरान इन्होंने दीवार पर लिखा था-‘अफजल गुरु का बदला’ इन दोनों की गिरफ्तारी के बाद हुई पूछताछ में जो सनसनीखेज खुलासे हुए उसने भारतीय खुफिया एजेसियो औऱ दिल्ली पुलिस की नींद उडा दी है. पता चला कि ये लोग बम धमाके करने के इरादे से बाकायदा दिल्ली आए थे. यहां आकर इन लोगों ने बम बनाने का सामान खरीदा और छह कैमिकल आईईडी यानि बम भी बनाए. खुफिया महकमे के सूत्रों के मुताबिक जैश के इन दोनों आतंकवादियो को आईएसआई के एक कैंप में केमिकल आईईडी बनाने की ट्रेनिग दी गई, फर्जी पासपोर्ट बनवाए गए औऱ मेडिकल वीजा के नाम पर ये लोग नवबंर 2015 में दिल्ली आ गए जहां लाजपत नगर में किराए का मकान भी दिलवा दिया गया. सूत्रों का कहना है कि इन आतंकवादियो के सहयोगियों ने इनकी बाकायदा पुलिस जांच इस लिए करा दी थी, जिससे इनके ऊपर किसी को शक ना हो सके. इस बात की जांच की जा रही है कि इस काम में कौन से पुलिसकर्मी और अन्य लोग शामिल थे.

Share This Post

Post Comment