विधवाओं को दोहरी पारिवारिक पेंशन का लाभ

चंढीगढ़/नगर संवाददाताः अब राज्य सरकार में पुन: नौकरी लेने वाले भूतपूर्व सैनिकों की विधवाओं को दोहरी पारिवारिक पेंशन का लाभ िमलेगा। सोमवार को मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की अध्यक्षता में हुई मंत्रमंडल की बैठक में इस फैसले को मंजूदी दे दी गई। इस फैसले के साथ राज्य सरकार पर 7.42 करोड़ रुपए का वार्षिक वित्तीय बोझ पड़ेगा। गौरतलब है कि सेना से सेवानिवृत्त होने के बाद सिविल एवं सरकारी संस्थानों में पुन:भर्ती हुए पूर्व सैनिकों की विधवाएं सिविल एवं सेना की फैमिली पेंशन में से एक के लिए हकदार थीं, जो उनकी प्राथमिकता पर निर्भर करता था। केंद्र सरकार के नोटिफिकेशन में पूर्व सैनिक कर्मचारियों की विधवाओं को दोहरी पेंशन स्वीकार की गई है। यह सुविधा राज्य में इन विधवाओं को इस समय नहीं थी, जिसकी अब मंजूरी दे दी गई है। वहीं मंत्रिमंडल ने पंजाबी सूबे की 50 वीं वर्षगांठ शानदार ढंग से मनाने के लिए राज्यभर में शृंखलाबद्ध समागम आयोजित करने को स्वीकृति भी दी है। इन समागमों में लोगों को पंजाबियांें द्वारा पंजाबी राज्य के गठन के लिए किए गए अथक संघर्ष संबंधी प्रयासों से लोगों को अवगत करवाया जाएगा। साथ ही विभिन्न प्रोग्रामों के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी भी बनाई गई है। वर्ष 1730 में मारवाड़ के शासन द्वारा वृक्षों की कटाई का विरोध करते हुए कीमती जानं न्यौछावर करने वाले महान प्रकृति प्रेमी श्रीमती अमृता देवी बिश्नोई और बिशनोई भाईचारे के अन्य 363 अन्य व्यक्तियों की कुर्बानी को मान्यता देते हुए मंत्रिमंडल ने फाजिल्का जिले के अबोहर के नजदीक सीतोगुणों गांव में एक नेचर पार्क-कम-यादगार बनाने को भी स्वीकृति दे दी है। मंत्रिमंडल ने 29 मई से 30 जून, 2016 तक महान सिख योद्धा बाबा बंदा सिंह की तीसरी शताब्दी के विभिन्न कार्यक्रम तथा नगर कीर्तन सजा कर मनाने की भी स्वीकृति दी है जिसके लिए मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक प्रबंधकीय कमेटी गठित की जाएगी जिसके उपचेयरमैन उपमुख्यमंत्री होंगे। यह कमेटी समूचे कार्यक्रमों की देख-रेख करेगी। प्रमुख विद्वानों और अन्य प्रमुख शख्सियतों को इन महान समागमों के साथ जोड़ा जाएगा। इस समारोह पर आने वाला 25 करोड़ का खर्चा राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। बाबा बंदा सिंह बहादुर का 20 फीट ऊंचा बुत पंजाब सरकार द्वारा नई दिल्ली के महरौली में 30 लाख रुपए की लागत से स्थापित किया जाएगा।

Share This Post

Post Comment