पत्नी के भाग जाने पर युवक चढ़ा हाई टेंशन पोल पर

उत्तर प्रदेश, फीरोजाबाद/शुभम अग्निहोत्री : चार बच्चों को छोड़ पौने दो माह से गायब पत्नी का सुराग नहीं लगा, तो रामप्रसाद का धैर्य जवाब दे गया। पुलिस प्रशासन पर दबाव बनाने के लिए सोमवार सुबह सात बजे वह हाईवे स्थित आसफाबाद स्थित सब स्टेशन के सामने हाईटेंशन लाइन के 140 फीट ऊंचे पोल पर चढ़ गया। थोड़ी देर में हाईवे पर भीड़ के साथ पुलिस-प्रशासनिक अमले का जमघट लग गया। इसके बाद उसने पुलिस-प्रशासन के समक्ष शर्त रख दी कि पत्नी को बरामद कराओ, उसके बाद ही नीचे उतरेगा। अधिकारियों ने रामप्रसाद को नीचे उतारने के लिए उसके बच्चों से लेकर दूसरी महिलाओं तक का सहारा लिया, लेकिन वह नहीं माना। छह घंटे तक अधिकारियों को छकाने के बाद तीन दिन में पत्नी की बरामदगी के आश्वासन पर वह बमुश्किल पोल से नीचे उतरा। थाना लाइनपार के मुहल्ला रामनगर पावर हाउस वाली गली निवासी राम प्रसाद (30) की पत्नी अनीता 27 मार्च को मायके की कहकर गई थी। उसके बाद से कोई सुराग नहीं है और घर में रामप्रसाद के चार बच्चे रो-रोकर परेशान हैं। वह पुलिस के निरंतर चक्कर लगाता रहा, लेकिन पुलिस ने सुनवाई नहीं की। यहां तक कि अधिकारियों के आदेश पर 20 अप्रैल को अनीता की गुमशुदगी दर्ज हो पाई। फिर पुलिस ने पत्नी को तलाशने में कोई रुचि नहीं दिखाई। हर तरफ से निराश होने पर सोमवार सुबह सात बजे रामप्रसाद हाईटेंशन विद्युत पोल पर चढ़ गया। करीब 140 फीट ऊंचाई वाले पोल पर युवक को चढ़ा देख भीड़ जुट गई। सूचना पर पुलिस पहुंची और अधिकारियों को जानकारी दी। इस पर एसडीएम सदर रवींद्र कुमार मांदड़, नगर मजिस्ट्रेट सुरेंद्र बहादुर यादव, सीओ सदर राजेश चौधरी, सीओ सिटी ओमकार नाथ समेत कई थानों का फोर्स पहुंच गया। अधिकारियों ने रामप्रसाद को नीचे उतारने के काफी प्रयास किए, लेकिन वह नीचे उतरने को तैयार नहीं हुआ। युवक ने अधिकारियों के सामने अपनी बात रखने के लिए गुमशुदगी रिपोर्ट और पंफलेट की फोटो कॉपी को नीचे फेंक दिया। उसने उस पर अपना मोबाइल नंबर भी लिखा था। लिहाजा, मौके पर मौजूद एसडीएम, सिटी मजिस्ट्रेट, सीओ सबने उससे फोन पर वार्ता की, लेकिन वहीं नहीं माना। इसके बाद लाउड स्पीकर के जरिए उसे समझाने का प्रयास हुआ, लेकिन प्रयास बेनतीजा रहे। लिहाजा, अधिकारियों ने रामप्रसाद के चारों बच्चों को बुलाया। फिर उनकी फोन तथा माइक के जरिए रामप्रसाद से बात कराई, लेकिन कोई हल नहीं निकला। इसके बाद अधिकारियों ने रामप्रसाद को भरोसा दिया कि तीन दिन के अंदर तुम्हारी पत्नी को बरामद करा देंगे, विश्वास मानो। तब जाकर छह घंटे बाद दोपहर एक बजे बाद रामप्रसाद पोल से नीचे उतरा। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया और अधिकारियों ने राहत की सांस ली। एसओ रसूलपुर शैलेंद्र सिंह यादव ने बताया कि युवक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Share This Post

Post Comment