बगैर रिश्वत के नहीं दे रहे इन्दिरा आवास की द्वितीय किश्त

जौनपुर, युपी/अंकुर गुप्ताः स्थानीय विकास खण्ड के विकास कार्यों का आलम यह है कि ग्रामसभा भोगीपट्टी निवासी नन्हकू राम पुत्र बाबू राम का चयन पात्रता के आधार पर इन्दिरा आवास के लिये वर्ष 2014-15 में हुआ तथा प्रथम किश्त के रूप मे 29 सितम्बर 2014 को उसे बचत खाते के माध्यम से 35000 रूपये भी प्राप्त हुआ। ऋण लेकर नन्हकू ने पैसा मिलने के दो माह के भीतर ही छत स्तर तक मानक के अनुसार आवास बनवा लिया लेकन तब से लेकर आज तक ब्लाक मुख्यालय का चक्कर काट रहा है जिसकी फरियाद सुनने वाला कोई नहीं है। अलबत्ता ब्लाक के जिम्मेदार अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा डांटकर भगा दिया जा रहा है और सुकराने की मांग की जा रही है जिसे दे पाने में वह अपने असमर्थ बता रहा है। ऐसे में पीड़ित के परिजन इस चिलचिलाती धूप व गर्मी में बगैर छत के मकान में रहने को मजबूर हैं जिससे परिवार काफी आहत व दुखी है। हर जगह फरियाद करके थक चुका पीड़ित अब मदद के लिये क्षेत्रीय विधायक सहित मुख्यमंत्री के दरबार में पत्र के माध्यम से गुहार लगाया है। वहीं ग्रामसभा निवासी समाजसेवी विकास तिवारी का कहना है कि मेरे संज्ञान में भी यह प्रकरण है। साथ में स्वीकृत अन्य कईयों इन्दिरा आवासों की दूसरी किश्त का भुगतान विकास खण्ड द्वारा कर दिया गया लेकिन नन्हकू को द्वितीय किश्त नहीं दिया जा रहा है। यह ब्लाक कर्मचारियों व अधिकारियों की लापरवाही व मनमानी है जबकि मानक के अनुरूप कार्य पूर्ण करा लिया गया है। हम जिलाधिकारी से मिलकर अनुरोध करेंगे कि मौके का स्वयं निरीक्षण करके पीड़ित को न्याय दिलाने की कृपा करें, क्योंकि यह कोई पहली घटना नहीं है। श्री तिवारी ने कहा कि पूर्व में लालचन्द व हीरावती के साथ भी ब्लाक कर्मियों द्वारा यही रवैया अपनाया गया था। लम्बे संघर्ष के बाद भुगतान हुआ। नन्हकू के लिये भी लड़ाई लड़ी जायेगी और जब तक न्याय नहीं मिलेगा, संघर्ष जारी रहेगा।

Share This Post

Post Comment