शौर्य चक्र विजेता शाहिद धर्माराम परिवार का सम्मान

बाड़मेर, राजस्थान/मांगीलाल चैाधरीः दिनांक 09.05.2016 को सुबह 10 बजे अमर शहीद धर्माराम मूर्ति अनावरण समारोह समिति की ओर से शहीद के परिजनों का मालाणी एक्प्रेस द्वारा बाड़मेर पहुंचने पर रेलवे स्टेशन पर भव्यतम स्वागत किया गया। तथा जैसे ही शहीद का परिवार ट्रेन से नीचे उतरा तो वहां मौजूद बाड़मेर की जनता ने शहीद धर्माराम अमर रहें के नारों से पलक पावड़े बिछाकर माल्याअर्पण कर शहीद परिवार का बहुमान किया गया तथा स्थानीय श्री किसान केसरी सी.सै.स्कूल, बाड़मेर में शहीद धर्माराम के परिवार का स्वागत समारोह रखा गया जिसमें शहीद की माता अमरू देवी, वीरांगना टीमू देवी व भाई बिजाराम का माला पहनाकर सम्मान किया गया। इस सम्मान के बाद शहीद के भाई बिजाराम ने वहां मौजूद सभी लोगों को सहयोग के लिए धन्यवाद दिया तथा कहा कि मेरे भाई के शहीद होने पर मुझे बहुत गर्व हैं तथा यह शौर्य चक्र की मांग करने वाले संगठन वीर तेजाजी टाईगर फोर्स के सभी सदस्यों का दिल से हार्दिक आभार प्रकट करता हूँ। तथा प्रेस कान्फ्रेस भी रखी गई जिसमें शहीद की वीरांगना टीमू देवी ने बताया कि मुझे आज आप सभी मिडिया के भाईयों से मिलते हुए बहुत खुशी हो रही हैं मैं पहले तो आप सभी को धन्यवाद देती हूँ कि आपने मेरे पति शहीद धर्माराम के साहस और बलिदान की कहानी को जन-जन और प्रशासन तक पहुचाया। आज मुझे गर्व है कि मैं शहीद धर्माराम की पत्नी (विरांगना) हूँ। मेरे पति के बलिदान को महामहीम राष्ट्रपति महोदय ने शौर्यचक्र प्रदान किया है। मैं यह सम्मान पाकर अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रही हूँ। साथ ही मेरे पूरे परिवार खासकर मेरी सास श्रीमति अमरूदेवी और मेरे जेठ बींजाराम मेरे गांव सहित पुरे जिले और प्रदेश तथा देश के लोगों ने सहयोग किया हैं। आज तक शहीद के नाम से जो भी कार्यक्रम हुए वो श्री वीर तेजाजी टाईगर फोर्स, पूर्व सैनिक कल्याण परिषद ने करवाएं हैं। अभी जो स्मारक का कार्य चल रहा हैं वो भी प्रेमाराम भादू के संयोजन में अमर शहीद धर्माराम मूर्ति अनावरण समारोह समिति कर रही हैं। जो आगे भी यहीं समिति करेगी। 25 मई को शहीद धर्माराम की पहली वर्षगांठ पर शहीद धर्माराम के पेतृकगांव तारातरा में शहीद धर्माराम की आदमकद मूर्ति का अनावरण किया जाना प्रस्तावित है। इस समिति के संयोजक प्रेमाराम भादू होगें। जनसहयोग अच्छा रहा हैं मगर सड़क का डामरीकरण, गांव का नामकरण और स्थानीय प्रशासन की तरफ से ज्यादा आर्थिक सहयोग व मदद नहीं मिली हैं। मेरा सपना है कि मेरा बेटा-बेटी अच्छी पढाई करें और बेटे को सेना में अफसर बनाना चाहती हूँ। साथ शहीद का स्मारक जैसा कि दो बीघा जमीन में बनाने जा रहे हैं इसमें जनसहयोग करने वाले लोग आगे आए। प्रशासन और जनप्रतिनिधि आगे आये और भव्य आयोजन हो तथा हर वर्ष शहीद मेला लगे। बाड़मेर के युवा शहीद धर्माराम के बलिदान से प्रेरणा ले। विशेष तौर से श्री वीर तेजाजी टाईगर फोर्स के प्रेमाराम भादू व समाज सेवी लाखाराम लेघा, भागीरथ सिंह नैण ओसियां, स्वामी जगरामपुरी जी, पूर्व सैनिक कल्याण परिषद के केप्टन हीरसिंह भाटी और केप्टन खिमाराम चैधरी सहित कई लोगों का सहयोग रहा हैं। जिला प्रशासन, मिडिया मेरे पति की बटालियन राज्य सरकार व भारत सरकार का भी शुक्रिया। राजनेताओं में सांसद कर्नल सोनाराम, बायतु विद्यायक कैलाश चैधरी, खींवसर विद्यायक हनुमान बेनिवाल, कारगिल हीरों दिगेन्द्र कुमार सिंह सहित कई जनप्रतिनिधियों का सहयोग रहा। सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए प्रेमाराम भादू ने कहा कि बाड़मेर की जनता का सम्मान हुआ हैं। हमें शहीद धर्माराम पर गर्व हैं। 25 मई को होने वाले मूर्ति अनावरण समारोह में सभी लोग आगे आकर सहयोग प्रदान करें साथ ही शहीद परिवार के लिए सहयोग करने वाले सभी को धन्यवाद भी दिया और कहा कि पूरे शहीद परिवार का आज सम्मान करते हुए हम अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहें हैं। इस समारोह को सभी मतभेद भूलाकर सहयोग करते हुए सफल बनाना हैं।

Share This Post

Post Comment