बच्चे दुर्लभ आनुवांशिक विकार प्रोजेरिया से पीड़ित

रांची, झारखंड/नगर संवाददाताः झारखंड की राजधानी रांची में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. दो बच्चे जिनके लिए स्कूल जाना किसी डरावने सपने से कम नहीं है. आठ साल की अंजलि और 20 महीने के केशव को एक ऐसी बीमारी ने जकड़ रखा है जो उन्हें कमरे के अंदर रहने को मजबूर करता है. दरअसल ये दोनों बच्चे दुर्लभ आनुवांशिक विकार प्रोजेरिया से पीड़ित हैं, जिसकी वजह से वे अभी से बूढ़े दिखाई देते हैं. उनकी त्वचा पर झुर्रियां पड़ चुकी हैं और चेहरे पर हमेशा सूजन रहती है. उन्हें जोड़ों में भी लगातार दर्द रहता है. आठ साल की अंजलि का कहना है ‘जब मैं स्कूल जाती हूं तो दूसरे बच्चे मुझे बूढ़ी औरत कहकर पुकारते हैं. मैंने कई बार अपनी टीचर से शिकायत भी की है, लेकिन कुछ नहीं हुआ. इन दोनों बच्चों की स्थिति वैसी है जैसे फिल्म ‘पा’ में अमिताभ बच्चन की थी. उन्होंने भी 12 साल के ‘प्रोजेरिया’ से पीड़ित बच्चे का किरदार निभाया था. अंजलि और केशव के माता-पिता शत्रुघ्न रजक और रिंकी देवी कपड़े धोकर 4500 रुपए महीना कमाते हैं. उनकी तीसरी बेटी की हालत भी ठीक नहीं हैं.  डॉक्टरों ने उन्हें बताया है कि बच्चों को ठीक नहीं हो सकते, बावजूद इसके रजक हार मानने को तैयार नहीं हैं. शत्रुघ्न ने कहा कि हम चिंतित हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम बच्चों को छोड़ देंगे या ऐसा कुछ करेंगे. हम इसका सामना करेंगे और हम अपने बच्चों के साथ हैं. अच्छा होता कि सरकार इस बीमारी का इलाज करने वाले खास अस्पतालों में हमारे बच्चों को ले जाने में मदद करते. हम वैसे भी कोशिश कर रहे हैं

Share This Post

Post Comment