भारत में ‘असहिष्णुता’ को लेकर जारी की गई रिपोर्ट

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः यूएस कमीशन फॉर इंटरनेशनल रिलिजियस फ्रीडम (USCIRF) की ओर से भारत में ‘असहिष्णुता’ को लेकर जारी की गई रिपोर्ट को भारत सरकार ने खारिज कर दिया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि नकारात्मक बातें करने वाले भारत को ठीक से नहीं जानते. स्वरुप ने कहा कि वे हमारे समाज और संविधान को भी नहीं समझते हैं. भारत में बहुसंख्यक समाज है, जो कि मजबूत लोकतांत्रिक मूल्यों पर आधारित है. भारतीय संविधान सभी नागरिकों को मूलभूत अधिकार प्रदान करता है. इसमें धार्मिक स्वतंत्रता भी शामिल है. USCIRF की सालाना रिपोर्ट में दावा किया गया है कि साल 2015 में भारत में धार्मिक स्वतंत्रता के उल्लंघन वाली घटनाएं बढ़ी हैं. रिपोर्ट में कहा गया है ‘धार्मिक नेताओं और अधिकारियों ने समुदायों के बारे में अपमानजनक टिप्पणियां की और इसके लिए उन्हें भारत सरकार ने खुलेआम फटकार भी लगाई.’ कमिशन का कहना है ‘हालात का विश्लेषण करने के मद्देनजर वह साल 2016 में होने वाली घटनाओं पर भी नजर ऱखेगा.’ USCIRF ने अमेरिकी सरकार को भारत के साथ धार्मिक स्वतंत्रता और नीतियों के मुद्दे पर द्विपक्षीय बातचीत करने की सलाह दी है. ये रिपोर्ट पीएम मोदी के वॉशिंगटन दौरे से करीब एक महीने पहले आई है. कमीशन की रिपोर्ट के मुताबिक ‘साल 2015 में अल्पसंख्यक समुदायों, खास तौर पर ईसाइयों, मुसलिमों और सिखों को भय, उत्पीड़न और हिंसा का शिकार होना पड़ा.’

Share This Post

Post Comment