पुलिस की लापरवाही से हुई दरोगा अख्तार खान की मौत

गौतमबुद्ध नगर, युपी/नगर संवाददाताः दादरी थाना पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि इलाके का कुख्यात हिस्ट्रीशीटर जावेद अपने घर में छिपा है. उसके पास भारी मात्रा में असलाह होने की ख़बर भी पुलिस को मिली थी. जावेद के खिलाफ लूट, हत्या जैसे कई अन्य संगीन आपराधिक मामले दर्ज हैं. सूचना मिलते ही दादरी थाने के प्रभारी होम सिंह यादव ने बिना स्थिति को समझे आनन-फानन में जावेद को पकड़ने की योजना बना डाली. सोमवार की अलसुबह दो दरोगा और दस पुलिसकर्मियों को साथ लेकर इंस्पेक्टर होम सिंह यादव ने दादरी के नई बस्ती इलाके में जावेद के घर दबिश दी. मगर जावेद वहां मौजूद नहीं था. बल्कि वो दूसरी जगह पनाह लिए हुए था. मुखबिर की सूचना यहां गलत साबित हुई नोएडा के दादरी इलाके में बदमाशों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ में दारोगा अख्तर खान शहीद हो गए. लेकिन उनकी मौत को लेकर अब दादरी पुलिस पर ही सवालिया निशान लग गया है. दबिश देने गई पुलिस टीम की लापरवाही सामने आ गई है. उसी का नतीजा है कि एक एसआई को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. आरोप है कि मुठभेड़ के दौरान दादरी थाने के प्रभारी और अन्य पुलिसकर्मी एसआई अख्तर खान को मौके पर अकेला छोड़कर भाग गए थे.

Share This Post

Post Comment