भतीजे ने भाड़े के शूटरों से अपने चाचा की कराई हत्या

फीरोजाबाद, उत्तर प्रदेश/शुभम अग्निहोत्री : साढ़े सात लाख रुपये हड़पने के उद्देश्य से ही भतीजे ने भाड़े के शूटरों से अपने चाचा की हत्या कराई थी। पुलिस ने दोनों हत्यारों को गिरफ्तार करते हुए घटना का खुलासा कर दिया। 12 फरवरी को सूरजपुर गांव के एक खेत में बने कुआं से 30 वर्षीय सुभाष चंद्र पुत्र विद्याराम का शव बरामद हुआ था। हत्या गोली मारकर की गई थी। इस मामले में अज्ञात में मुकदमा दर्ज कराया गया था। परिजनों का कहना था कि आठ फरवरी को सुभाष घर से करीब 80 हजार रुपये लेकर आया था। एसओ चंद्रशेखर यादव मुकदमा दर्ज होने के बाद मामले की तहकीकात में जुटे थे। रविवार दोपहर एसओ ने मुखबिर की सूचना पर सराय शेख की मोड़ से वहीं के निवासी शिशुपाल ¨सह पुत्र वीरी ¨सह और सनी पुत्र महावीर ¨सह को गिरफ्तार कर लिया। दोनों को पुलिस थाने ले गई। पुलिस को पता चला कि इन दोनों युवकों ने सुभाष की हत्या की है। पूछताछ में हत्यारों ने पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया, लेकिन सख्ती बरतने पर सब कुछ बता दिया। थानाध्यक्ष एसओ चंद्रशेखर यादव ने बताया करीब एक माह पूर्व सुभाष ने ढाई बीघा खेत अपने भतीजे अजय उर्फ वीटू निवासी सराय शेख को साढ़े बारह लाख रुपये में बेचा था। जमीन के बैनामा के समय अजय ने सुभाष को चार लाख रुपये नकद दे दिए और शेष रकम कुछ दिन बाद देने को कहा था। इसके बाद वह रुपये मांगने पर वह टहलाने लगा। इसको लेकर सुभाष का वीटू से वाद-विवाद भी हुआ था। एसओ ने बताया साढ़े सात लाख रुपये न देने पड़े, इसीलिए वीटू ने हत्या की योजना बनाई। उसने मुहल्ला के ही शिशुपाल और सनी को 80 हजार रुपये में हत्या करने के लिए राजी किया। कुछ रकम एडवांस भी दी गई। एसओ ने बताया सात फरवरी को वीटू ने दोनों भाड़े के हत्यारों को अपने घर बुलाया और घटना की योजना बनाई। इसी के अंतर्गत आठ फरवरी को सुभाष को फोन कर बुलाया। हाईवे पर पहले सुभाष को शराब पिलाई और फिर उसे गाड़ी चलाने को दे दी। जैसे ही सुभाष ड्राइव करने सीट पर बैठा पीछे से सिर में तमंचे से गोली मार दी। उसी रात शव को सूरजपुर गांव के कुआं में फेंक दिया। एसओ ने बताया दोनों हत्यारों ने घटना की स्वीकारोक्ति की है। मुख्य आरोपी वीटू की तलाश में दबिश दी जा रही है, जल्द उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Share This Post

Post Comment