मुंबई में खोला गया मेरा ऑफिस’

मुंबई, महाराष्ट्र/अमितः मुंबई में मेरा कार्यालय स्थापित किया गया ताकि मैं भारत में इसकी आड़ ले सकूं। यह आड़ जरूरी थी ताकि मेरी असली पहचान का पता नहीं चल सके। हेडली ने 2006 और 2008 के बीच कई बार भारत की यात्रा की। नक्शे खींचे, विडियो फुटेज ली और हमले के लिए ताज होटल, ओबरॉय होटल और नरीमन हाउस समेत विभिन्न ठिकानों की जासूसी की। हेडली की जासूसी ने हमला करने वाले लश्कर के 10 आतंकवादियों और उनके आकाओं को अहम जानकारी उपलब्ध कराई अदालत ने 10 दिसंबर 2015 को हेडली को इस मामले में सरकारी गवाह बनाया था और उसे आठ फरवरी को अदालत के समक्ष पेश होने को कहा था। उस समय हेडली ने विशेष न्यायाधीश जी. ए. सनप से कहा था कि अगर उसे माफ किया जाता है तो वह ‘गवाही देने को तैयार’ है। न्यायाधीश सनप ने हेडली को कुछ शर्तों के आधार पर सरकारी गवाह बनाया

Share This Post

Post Comment