शव का अंतिम संस्कार की जगह तक नहीं

दीपक सैनी, जयपुर/राजस्थानः सांसी समाज में शनिवार को हुइ एक जने की मृत्यु पर आज उसका अंतिम संस्कार करने सांसी पहुंचेसमाज के लोगो को शव का अंतिम संस्कार नहीं करने का विरोध झेलना पडा। दरअसल सांसी समाज पूर्व में सांसी समाज के लोग सांसी कॉलोनी रेल्वे स्टेशन से करीब 11 किलोमीटर दूर ग्राम लोहरवाडा में शवो का अंतिम संस्कार किया करते थे। जिससे परेशान होकर ये अपनी फरियाद यहां के विधायक व जनप्रतिनिधयो से की  की आखिर ये शव को यहां से 11 किलोमीटर दूर लेकर जाते है तो काफी दिक्कते आती है। वहीं इन्हे अन्य समाज से पिछडा व अछुत मानते हुए यहां शरण नहीं दे रहे। इसके बाद विधायक व जनप्रतिनिधयो के आश्वासन पर ये आज शव को लेकर वार्ड नं. 2 बोरावाली ढाणी के लिए पहुंचे। जहां माली समाज का मोक्षधाम है। वहां सांसी समाज के लोग लकडिया डालकर अंतिम संस्कार की क्रिया करने लगे। यह देखकर बोरवाली ढाणी माली समाज के लोग वहां पहंूचे और उनको शव का अंतिम संस्कार नहीं करने दिया।
सांसी समाज के लोग का कहना था कि हमे यहां अंतिम संस्कार के लिए विधायक ने कहा है। सांसी समाज के लोग इसी बात पर अडे रहे और शव का अंतिम संस्कार यहीं करने के लिए अपनी प्रतिक्रिया करते रहे। मामला धीरे धीरे बढता गया। मामला कहासुनी से गहमागहमी में बदल गया। पूरा मोक्षधाम में गांव के लोग आ डटे और सांसी समाज के लोगो को शव का अंतिम संस्कार नहीं करने को कहा। मामला गंभीर होता देख किसी ने पुलिस को सूचना दी। जिसके बाद पुलिस वहां पहंुची और मामले को शांत कराना चाहा। लेकिन माली समाज के लोगो का साफ कहना था कि आज तक यहां माली समाज के लोगो का ही अंतिम संस्कार हुआ है। और यहां किसी अन्य समाज के लोगो का अंतिम संस्कार नहीं करने दिया जायेगा।
मामला धार्मिक भावनाओ से जूडा था इसलिए पुलिस ने भी अपनी ओर से ज्यादा प्रतिक्रिया नहीं दिखाई।
एक तरफ शव नीचे जमींन पर पडा रहा तो दुसरी ओर सांसी समाज व माली समाज के लोगो में वाद विवाद चलता रहा। पुलिस ने मामले को समझने के लिए मौके पर नायब तहसीलदार, गिरदावर व पटवारी मौके पर पहंुचे। जहां पुलिस के आलाअधिकारी एसएचओ अशोक चौहान भी पहंूचे। पुलिस के आलाअधिकारियो व प्रशासनिक अधिकारियो के समक्ष सांसी समाज के लोगो को कागजात दिखाने के लिए कहा। जहां सांसी समाज के लोगो ने उन्हे कागज दिखाये तो अन्य जगह आंवटित की हुई स्थान को दर्शाया। तब पुलिस ने सांसी समाज के लोगो को शव के अंतिम संस्कार के लिए खादी बाग रोड, मेहराम ढाणी में करने को कहा।
सांसी समाज व माली समाज में तू तू मै मैं पूूरे 2 घंटे चला। पुलिस व प्रशासन के आ जाने पर भी मामला 2 घंटे और खींचा। पूरे 4 घंटे सांसी समाज के लोग शव को कभी इधर तो कभी उधर लेकर घुमते रहे।
काफी जदोजहात के बाद सांसी समाज के लोग शव को उठाकर खादी बाग रोड, मेहराम ढाणी पहंूचे। जहां सांसी समाज के लोग शव के अंतिम संस्कार में काम आने वाली लकडिया भी उसी जगह बोरावाली ढाणी छोड आये। अब सांसी समाज के लोगो के पास शव का अंतिम संस्कार करने के लिए लकडिया नहीं थी। तब पुलिस ने अपने खर्च से लकडिया लाकर अंतिम संस्कार करने का कहा। लेकिन वहां कुछ माली समाज के लोगो ने वह लकडिया वापस अंतिम संस्कार की जगह मेहराम ढाणी खादी बाग रोड मोक्षधाम भिजवा दी। इसके बाद पुलिस व प्रशासन के आलाअधिकारियो के समक्ष शव का अंतिम संस्कार किया गया। लेकिन वहां भी जाट समाज का मोक्षधाम होने से हल्का विरोध हुआ। लेकिन पुलिस की मौजूद्गी के कारण कोई विवाद नहीं हुआ और शांतिपूर्ण शव का अंतिम संस्कार किया गया।

Share This Post

Post Comment