लड़कियों के साथ छेड़छाड़ से शराबी बंदे को रोका तो बिगड़ा मामला

निखिल बंसाली, अजमेर/राजस्थानः सदर थाना पुलिस ने जिन 14 युवक-युवतियों को सेक्स रैकेट बताकर पीटा एक्ट में गिरफ्तार किया है, वे वास्तव में जयपुर की इवेन्ट कंपनी के पार्ट टाइम कर्मचारी है और ब्यावर में एक कार्यक्रम में आये थे। इनके लिए आयोजक ने बाकायदा कमरे बुक कराये थे और कर्मचारी युवक-युवती कार्यक्रम पूरा करने के बाद जब रात्रि विश्राम के लिए होटल लौटे तो उन्हें ऐसा-वैसा मानकर मनचलों ने हाथ डालने की कोशिश की। पुलिस अब उन लोगों को सामने नहीं ला रही है जिन्होंने अजमेर पुलिस अधिकारी को फोन कर कथित सेक्स रैकेट की सूचना दी। पुलिस को भी रिसोर्ट से आपत्ति जनक कुछ नहीं मिला लेकिन उसके लिए शराब और गर्भ निरोधक बताकर केस बनाना ज्यादा मुश्किल नहीं है।

इस पूरे मामले में गौरतलब बात यह है कि आरोपी युवक-युवतियों में कई आईएएस, एमबीए, एमए व एमकॉम की पढ़ाई कर रहे हैं और पार्ट टाइम अपने खर्चे पूरे करने के लिए वे इवेन्ट कंपनी से जुड़े हैं। आरोपियों पर इससे पहले भी कभी कोई ऐसा आरोप नहीं लगा और कोई मामला भी कभी कहीं नहीं बना।

रात 10 बजे तक नवगृह प्रवेश स्थल पर कार्यक्रम हुआ, 11 बजे सेन्दड़ा रोड़ होटल पहुंचे, 11.30 पर होटल में शराबी से झगड़ा हुआ, रात 12 बजे रिसोर्ट में शिफ्ट हो गये। कमरों में पहुंचने के कुछ ही देर बाद पुलिस जा धमकी। कमरों में लड़कियां ठीक हालत में व पूरे कपड़ों में थी। उनके व आयोजक के बयान तथा इवेन्ट कंपनी के मैनेजर की मौजूदगी के बावजूद पुलिस का एक निजी पारिवारिक कार्यक्रम में आये मेहमानों के साथ इस तरह का बर्ताव चौंकाने वाला है।

Share This Post

Post Comment