आज के इस महंगाई के दौर में जहां हर चीज महंगी है, हंसी ही सस्ती क्यों रहे, सो हंसी भी महंगी हो गई है जिसे लोग सोच-समझ के बहुत थोड़ा-थोड़ा खर्च करते हैं। आज जीवन शैली ही ऐसी बन गई…

व्यायाम करते समय शरीर में पानी और नमक की कमी हो जाती है। अतः संभव हो तो एक गिलास इलेक्ट्रॉल का द्घोल पिएं अन्यथा सादा पानी पिएं। यदि व्यायाम पंद्रह मिनट से अधिक समय तक जारी रहता है तो फिर…

कहते हैं ‘मेडिटेशन इज माइंड विदाउट एजिटेशन, ध्यान से मन शांत निर्विकार होता है इसमें दो राय नहीं। ध्यान में अपने चित्त की गतिविधि को देहगत संवेदना को तटस्थ बनकर, सिर्फ साक्षी के तौर पर देखा जाता है।  अपने को…

आजादी के 60 वर्षों में हमने अपनी खाने की आदतों के बारे में क्या विचार किया इससे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि हम बेहिसाब खाने वाला देश बन गए। हमारी संस्कृति और सभ्यता में खान-पान आकर्षण का विषय रहा लेकिन…

सभी प्राकतिक प्रक्रियाएं आपके शारीरिक क्रियाकलापों से जुडी हुई हैं। ठंड होने पर उसका महसूस होना भी इसी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। ऐसे में यदि आप महज बहादुरी दिखाने के चक्कर में ये जताते हों कि ‘ये ठंड किस…

हमारा स्वास्थ्य तभी ठीक रह सकता है, जब हमारा आहार-विकार होने पर स्वास्थ्य बिगड़ते देर नहंी लगती। जहां गर्मी में तपती धूप और झुलसती लू से मानव बेचैन हो उठता है, वहीं वर्षा ऋतु में दूषित पेयजल और गंदगी भी…